Kahani – ख़ुशी के बहाने नहीं हुआ करते, ख़ुश होना ही ख़ुशी की वजह है!

Why are we sad? | हम उदास क्यों होते हैं? एक दफ़ा कुछ यूं हुआ कि किसी बड़े पहुंचे हुए संत के पास पांच लोग पहुंचे । पाँचों के चेहरों पर गहरी उदासी झलक रही…

Read More

लाख़ मिलाले कोई दुश्मन, मीठी बातों में ज़हर ! पर बग़ल में छुपी छुरी आख़िर नज़र आ ही जाती है!

लाख़ मिलाले कोई दुश्मन, मीठी बातों में ज़हर ! पर बग़ल में छुपी छुरी आख़िर नज़र आ ही जाती है! जी हाँ, प्यारे दोस्तों स्वागत है आप सभी का आपके अपने यूट्यूब चैनल लाइफेरिया के…

Read More

तो क्या हुआ कि तुमने खींच ली मेरे पैरों तले की ज़मीन…..मुझे आज भी मेरे आसमां ने थामें रख्हा है!!

तो क्या हुआ कि तुमने खींच ली मेरे पैरों तले की ज़मीन…..मुझे आज भी मेरे आसमां ने थामें रख्हा है!! जी हाँ, प्यारे दोस्तों स्वागत है आप सभी का आपके अपने यूट्यूब चैनल लाइफेरिया के…

Read More

ज़िन्दगी के माथे पर लिख्हा जा सकता है नाम सिर्फ़ ज़िन्दगी का…..

ज़िन्दगी के माथे पर लिख्हा जा सकता है नाम सिर्फ़ ज़िन्दगी का….. जी हां प्यारे दोस्तों ,स्वागत है आप सभी का आपके अपने यू ट्यूब चैनल “लाइफेरिया” के इस मंच पर जहां मैं बेहद बेसब्री…

Read More

चलती का नाम गाड़ी और बढ़ती का नाम ज़िन्दगी

बढ़ती का नाम ज़िन्दगी… दम भर……जो थमें तो जाना…….दरअसल वो जीने के लिए ही मिली थी……जिस “ज़िन्दगी” को लेकर न जानें कितनी सदियों से सिरफ़ सोच ही रहे हैं हम !!!ज्यूँ सागर किनारे मोती पाने…

Read More

थप्पड़ परम्परा

“थप्पड़ परम्परा!”दिल के नक़्शे को बदल कर रख दिया है, गालों पर पड़े थप्पड़ ने!हाँ! अभी “थप्पड़” देख रही हूं मैं!यूँ तो अकेली ही हूँ….!पर यूँ लग रहा है कि जैसे कई कई …शायद हज़ारों…

Read More

तुम्हें खोने की हिम्मत नहीं है मुझमें, फ़िर भला तुम्हें पाने की ज़ुर्रत क्यों करूँ!

तुम्हें खोने की हिम्मत नहीं है मुझमें, फ़िर भला तुम्हें पाने की ज़ुर्रत क्यों करूँ! जानते हो? हर दफ़ा तुम्हें पा लेने के मेरे ख़्वाब, बस तुम्हें खो देने के डर से ही टूटे हैं!तो…

Read More

कुछ शेर फ़क़त उनको सुनाने के लिए हैं

यूं तो बहुत सी बातें होती हैं! घरों में, बाहर, लोगों से, गैरों से, गैरों से, अपनों से, परायों से, मगर कुछ बातें होती हैं या कुछ भी बातें होती हैं उस फितरत की, कि…

Read More

अपनी ख़ुशी से अपना ही दिल तोड़ना पड़ा…!!

अपनी ख़ुशी से अपना ही दिल तोड़ना पड़ा…!! आंखें बंद थी!पलकों पर झूल रहे थे ख़्वाब…होंठों पर मिलने की आस….मुस्कान बन कर महक रही थी!एक दूजे को याद कर फूले नहीं समां रहे थे हम….एक…

Read More