coffee quotes hindi

Coffee Quotes / Messages in Hindi with Images

कॉफ़ी#01 दुनिया के किसी कोने में…. किसी कॉफ़ी हाउस की कार्नर टेबल पर रखी हुई दो महकती हुई कॉफ़ी….. महज़ कॉफ़ी नहीं दरअसल इंतज़ार होता है…. दो रूहों का…. दो जन्मों का !!!! कॉफ़ी#02 ग़र कॉफ़ी हाउस में भी अकेली हो कॉफ़ी….. तब तो कहानी में यक़ीनन कई पेंच होंगे न !! कॉफ़ी#03 जब कभी …

Coffee Quotes / Messages in Hindi with Images Read More »

alingan hug poem hindi

कविता : आलिंगन

पहचानों आलिंगन को  !उसे ही तो महसूस किया था हमने पहले पहल….जब पाया था ख़ुद को अपनी माँ की बाहों में !फ़िर कितने ख़ुश हुए थे हम , जब बाबा ने भरा था बाहों में….. पहली दफ़ा ! और  याद करें कि रक्षाबंधन पर सरप्राइज़ विज़िट पर कितने स्नेह से आलिंगनबद्ध हुए थे  हम अपनी प्यारी …

कविता : आलिंगन Read More »

hindi kavita poem tum panchi

कविता : तुम पंछी मैं शाख़

पेड़ों  पर ही उग आए थे हम – तुम प्यार की  बारिश में भीगे – भीगे मुहब्बतों की खुशबुओं से महके – महके फिर  हालातों की  आँधियों से लड़े थे संग – संग  ये  बात और है कि पकते – पकते  उग आए थे  पँख  भी तुम्हारे  और पूरी तरह पकने से पहले ही नाप ली थी तुमने ऊँचाइयाँ  आकाश की और …

कविता : तुम पंछी मैं शाख़ Read More »

a letter from corona

कविता : कॅरोना का ख़त, सैनिटाइजर के नाम

पेश ए ख़िदमत है करोना पर मेरी एक ताज़ा तरीन हास्य कविता ” कॅरोना का ख़त सेनेटाइज़र के नाम”प्लीज़ ग़ौर फ़रमाइएप्यारे दोस्त ,तुम सेनेटाइज़र हो मेरे और…मैं तुम्हारी कॅरोना….!!!अब मुझसे मुक्ति के लिए तुम इतनी भी ज़िद करो ना !!तुम्हारे लिए ही जानेमन, मैं चायना से उठ कर आई हूं!भारत के लिए तोहफ़े में आत्म …

कविता : कॅरोना का ख़त, सैनिटाइजर के नाम Read More »

akant

कविता : एकांत

‘एकांत’ हमें ले जाता है…. ‘एकांत’ हमें ले जाता है…. भीड़ से दूर…कोलाहल से दूर….ख़ुद की ओर….प्रकृति की ओर..जीवन की ओर…!और जीवन की ओर जाकर ही लौटाई जा सकती है मृत्यु असमय ।इससे पूर्व कि ‘अकेला’ कर दे कॅरोना हमें….क्यों न हम एक होकर जान लें ‘एकांत’ का महत्व..तो शुक्रिया करो न ‘कॅरोना’ का…!!कि उसकी …

कविता : एकांत Read More »

love you poem

कविता : मैं तुमसे प्यार करती हूँ

मैं  तुम्हारी  मुहब्बत  में  हूँ ,  पता  है …… ?तुम्हारे  इश्क़  में  दिवानी –  दिवानी !!तो  क्या हुआ  कि  तुम   नज़रे   इनायत  भी नहीं  करती हो  मेरी  जानिब ; मगर  मैं  फिर भी  तुम  पर मरती हूँ !कभी  मन  करता है कि  कॉलर  पकड़कर  पुछूँ    तुमसे  …. क्यूँ  इतना  इतराती हो भई …

कविता : मैं तुमसे प्यार करती हूँ Read More »