a letter from corona

कविता : कॅरोना का ख़त, सैनिटाइजर के नाम

पेश ए ख़िदमत है करोना पर मेरी एक ताज़ा तरीन हास्य कविता ” कॅरोना का ख़त सेनेटाइज़र के नाम”प्लीज़ ग़ौर फ़रमाइएप्यारे दोस्त ,तुम सेनेटाइज़र हो मेरे और…मैं तुम्हारी कॅरोना….!!!अब मुझसे मुक्ति के लिए तुम इतनी भी ज़िद करो ना !!तुम्हारे लिए ही जानेमन, मैं चायना से उठ कर आई हूं!भारत के लिए तोहफ़े में आत्म …

कविता : कॅरोना का ख़त, सैनिटाइजर के नाम Read More »

akant

कविता : एकांत

‘एकांत’ हमें ले जाता है…. ‘एकांत’ हमें ले जाता है…. भीड़ से दूर…कोलाहल से दूर….ख़ुद की ओर….प्रकृति की ओर..जीवन की ओर…!और जीवन की ओर जाकर ही लौटाई जा सकती है मृत्यु असमय ।इससे पूर्व कि ‘अकेला’ कर दे कॅरोना हमें….क्यों न हम एक होकर जान लें ‘एकांत’ का महत्व..तो शुक्रिया करो न ‘कॅरोना’ का…!!कि उसकी …

कविता : एकांत Read More »

love you poem

कविता : मैं तुमसे प्यार करती हूँ

मैं  तुम्हारी  मुहब्बत  में  हूँ ,  पता  है …… ?तुम्हारे  इश्क़  में  दिवानी –  दिवानी !!तो  क्या हुआ  कि  तुम   नज़रे   इनायत  भी नहीं  करती हो  मेरी  जानिब ; मगर  मैं  फिर भी  तुम  पर मरती हूँ !कभी  मन  करता है कि  कॉलर  पकड़कर  पुछूँ    तुमसे  …. क्यूँ  इतना  इतराती हो भई …

कविता : मैं तुमसे प्यार करती हूँ Read More »