Article

break relation

भला कैसे टूट जाते हैं हमारे रिश्ते?

How do a Relationship break? नमस्कार प्यारे दोस्तों,स्वागत है आप सभी का आपके अपने यूट्यूब चैनल लाइफेरिया के इस मंच पर जहां आज हम जवाब दे रहे हैं श्री प्रदीप सुथार जी के प्रश्न का जिसमे उन्होंने पूछा है एक सवाल कि “भला कैसे टूट जाते हैं हमारे रिश्ते?” पर उससे पहले आप सभी का …

भला कैसे टूट जाते हैं हमारे रिश्ते? Read More »

लाख़ मिलाले कोई दुश्मन, मीठी बातों में ज़हर ! पर बग़ल में छुपी छुरी आख़िर नज़र आ ही जाती है!

लाख़ मिलाले कोई दुश्मन, मीठी बातों में ज़हर ! पर बग़ल में छुपी छुरी आख़िर नज़र आ ही जाती है! जी हाँ, प्यारे दोस्तों स्वागत है आप सभी का आपके अपने यूट्यूब चैनल लाइफेरिया के इस मंच पर जहां आज फिर हम मिल रहे हैं एक बेहद रोचक विषय के साथ….पर उससे पहले आप सभी …

लाख़ मिलाले कोई दुश्मन, मीठी बातों में ज़हर ! पर बग़ल में छुपी छुरी आख़िर नज़र आ ही जाती है! Read More »

तो क्या हुआ कि तुमने खींच ली मेरे पैरों तले की ज़मीन…..मुझे आज भी मेरे आसमां ने थामें रख्हा है!!

तो क्या हुआ कि तुमने खींच ली मेरे पैरों तले की ज़मीन…..मुझे आज भी मेरे आसमां ने थामें रख्हा है!! जी हाँ, प्यारे दोस्तों स्वागत है आप सभी का आपके अपने यूट्यूब चैनल लाइफेरिया के इस मंच पर जहां आज फिर हम मिल रहे हैं एक नए विषय के साथ, जैसा कि पिछले वीडियो में …

तो क्या हुआ कि तुमने खींच ली मेरे पैरों तले की ज़मीन…..मुझे आज भी मेरे आसमां ने थामें रख्हा है!! Read More »

ज़िन्दगी के माथे पर लिख्हा जा सकता है नाम सिर्फ़ ज़िन्दगी का…..

ज़िन्दगी के माथे पर लिख्हा जा सकता है नाम सिर्फ़ ज़िन्दगी का….. जी हां प्यारे दोस्तों ,स्वागत है आप सभी का आपके अपने यू ट्यूब चैनल “लाइफेरिया” के इस मंच पर जहां मैं बेहद बेसब्री से इंतज़ार करती हूं आप सभी से रूबरू होने का।तो चलिए करते हैं शुरुवात…..आज हम बात कर रहे हैं हमारे …

ज़िन्दगी के माथे पर लिख्हा जा सकता है नाम सिर्फ़ ज़िन्दगी का….. Read More »

article on life

चलती का नाम गाड़ी और बढ़ती का नाम ज़िन्दगी

Chalti ka naam Gaddi🚗 दम भर……जो थमें तो जाना…….दरअसल वो जीने के लिए ही मिली थी……जिस “ज़िन्दगी” को लेकर न जानें कितनी सदियों से सिरफ़ सोच ही रहे हैं हम !!!ज्यूँ सागर किनारे मोती पाने के ख़्वाब में ग़ुम हो कोई!! ये भूल कर कि जिसे पार करना हो न, उसके आर-पार जाना पड़ता है!यूं …

चलती का नाम गाड़ी और बढ़ती का नाम ज़िन्दगी Read More »

thappad in hindi

दिल के नक़्शे को बदल कर रख दिया है, गालों पर पड़े थप्पड़ ने!

थप्पड़ परम्परा…! “थप्पड़ परम्परा!”दिल के नक़्शे को बदल कर रख दिया है, गालों पर पड़े थप्पड़ ने!हाँ! अभी “थप्पड़” देख रही हूं मैं!यूँ तो अकेली ही हूँ….!पर यूँ लग रहा है कि जैसे कई कई …शायद हज़ारों स्त्रियां मेरे भीतर हैं जो देख रही हैं… हज़ारों साल….. कई सदियां…. कई युग …पीछे जाकर!एक “थप्पड़”! जिसकी …

दिल के नक़्शे को बदल कर रख दिया है, गालों पर पड़े थप्पड़ ने! Read More »

सोचने वाली बात 08 | मास्टर शेफ़ वही बनते हैं, जिन्हें हरी मिर्च और प्याज़ काटने से परहेज़ नहीं होता!

सोचने समझने वाली बात 08 प्यारे दोस्तों, सादर नमस्कारस्वागत है आप सभी का आपके अपने यू ट्यूब चैनल ‘लाइफेरिया’ के इस मंच पर जहां आज हम बढ़ रहे हैं एक और बेहद जरूरी और सोचने वाली बात की ओर पर इससे पहले की मैं शुरुआत करूँ मैं आप सभी का तहेदिल से शुक्रिया अदा करती …

सोचने वाली बात 08 | मास्टर शेफ़ वही बनते हैं, जिन्हें हरी मिर्च और प्याज़ काटने से परहेज़ नहीं होता! Read More »

सोचने वाली बात 07 क्या करें ? जब ग़लत समझ बैठे लोग हमें !! या नहीं समझे वैसे,जैसे हम हैं !!

सोचने वाली बात 07क्या करें ? जब ग़लत समझ बैठे लोग हमें !! या नहीं समझे वैसे,जैसे हम हैं !! बहुत गफ़लत होती है!, बेहद परेशानी! बड़ी बैचेनी! एक तरह से उलझन में डाल देनेवाली स्थिति, जब लोग कोई ग़लत राय बना लेते हैं हमारे बारे में! कोई टैग लगा देते हैं हम पर! या …

सोचने वाली बात 07 क्या करें ? जब ग़लत समझ बैठे लोग हमें !! या नहीं समझे वैसे,जैसे हम हैं !! Read More »

ख़्वाहिशों को सिखाइए सब्र का हुनर… कि अभी बहुत ज़रूरतें पूरी करनी हैं |

पूरी होनी चाहिए ज़रूरतें, ख़्वाहिशों को इंतज़ार करने दीजिए….. आख़िर वो सुबह आ ही गई!जिसका हम सभी को था इंतज़ार !इतने दिनों, महीनों के बाद खुला है लॉक डाउन ! खिले हैं लोग !और निकल पड़ी हूँ मैं बाज़ार की ओर…जैसे कोई आज़ाद पंछी भरता है नित नई उन्मुक्त उड़ान !कितना कुछ चाहती हूं मैं, …

ख़्वाहिशों को सिखाइए सब्र का हुनर… कि अभी बहुत ज़रूरतें पूरी करनी हैं | Read More »

ज़िन्दगी यदि सवाल है तो जवाब भी ज़िन्दगी ही होना चाहिए… मौत नहीं ! ( Question & Answer of LIFE )

ज़िन्दगी यदि सवाल है तो जवाब भी ज़िन्दगी ही होना चाहिए…मौत नहीं! सोचनेवाली बात है न ! कि हमेशा तो नहीं !!!पर हाँ ! अक़्सर सवालों में ही कहीं छुपे होते हैं जवाब भी…..वैसे ही जवाबों का धुआं है, तो यक़ीनन सवालों की आग भी धधक ही रही होगी कहीं!! और जैसे लाजवाब होती हैं …

ज़िन्दगी यदि सवाल है तो जवाब भी ज़िन्दगी ही होना चाहिए… मौत नहीं ! ( Question & Answer of LIFE ) Read More »